advertisment

Sunday, 11 September 2016

मंडी से औट टनल (कुल्लू मनाली शिमला टूर )



सुंदरनगर में 


सुन्दर नगर पार करते ही मंडी आता है । मंडी को हिल्स ऑफ वाराणसी या हिमाचल का काशी भी कहते है । यहाँ के लोगों का दावा है कि बनारस मे केवल 80 मंदिर है, जबकि मंडी में 81 मंदिर है ।
 सभी बैठे बैठे बोर हो गए थे । यहाँ कुछ ऐसे बढ़िया सीन देखने को मिले की सब की बोरियत दूर हो गई । एक मोटर साइकिल वाला मोटर साइकिल एक टेम्पो में रख कर ले जा रहा था । परंतु उसे बांधने की बजाये वो खुद उस पर बैठा था । और बैठा भी मोटर साइकिल चलाने वाली मुद्रा में था । 


मोटर साइकिल  टेम्पो में

मोटर साइकिल चलाने वाली मुद्रा

 बस फँस गई 

फँस गई रे बाबा 

उसे देख कर सब की हंसी छूट गई । जरा सा आगे चले एक टूरिस्ट बस एक मोड़ पर चढ़ते हुए पीछे से जमींन में फंस गई । आम तौर पर लॉन्ग बॉडी की बस पहाडो पर पास नहीं होती । पहाड़ों पर चलने वाली सरकारी बसें भी पीछे से ज्यादा लंबी नहीं होती । खैर , ये सब नज़ारे देख कर जो सफर की बोरियत थी , दूर हो गई ।


व्यास नदी 

मंडी से आगे 

 मंडी से हम आगे बढे ।
पहाड़ो पे हैण्ड पंप

 मीठा पानी 

बोतले भर ली 

पंडोह डैम


पंडोह डैम




 लगभग 35 कि मी आगे पंडोह डैम आता है । पंडोह बांध ब्यास नदी पर बना  है । जो इस भूभाग की मुख्य नदी है । अतः इसमें पानी की प्रचुरता है । यह डैम बिजली उत्पादन के लिए है , ये डैम लगभग 76 मीटर ऊंचा है । कुल्लू मुख्य मार्ग पर पड़ने के कारण ये हमेशा ही पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र रहा है । यहां की सुन्दरता किसी भी यात्री का मन मोह लेती है । इतनी खूबसूरत जगह देख कर हमने भी गाड़ी रुकवा ली । यहाँ एक हैण्ड पंप भी लगा है । पहाड़ो पर हैण्ड पंप देख कर अचरज हो रहा था । जब उसे इस्तेमाल किया तो पाया उसका पानी बहुत ही बढ़िया है । शायद यह बराबर में डैम की वजह से था । लगभग 15 - 20 मिनट रुक कर हम फिर चल दिए ।

हमारे भारत की शान  

rishabh


मनीष 

मैं , मेरा परिवार 

मैं , मेरी धर्म पत्नी जी 


रास्ते में एक जगह झूला पुल नजर आया । जो व्यास नदी पार करने के लिए बनाया गया था । हमने गाड़ी रुकवा ली । और झूला पुल पर घूम कर आए । लोगों ने बताया कि ऊपर जा कर एक प्रसिद्ध मंदिर है । ये पुल उस मंदिर को कनेक्ट करने के लिए बनाया गया है  । हम मंदिर में नहीं गए । क्योंकि मंदिर बहुत ऊपर था । वहां जाने का मतलब था कम से कम एक से डेढ़ घंटे । सो हम फिर अपनी मंजिल की तरफ चल पड़े ।


 झूला पुल

 झूला पुल पर हम 

 झूला पुल पर हम 

 झूला पुल पर मनीष व ऋषभ 

व्यास नदी पर  झूला पुल

व्यास नदी 

झूला पुल के शुरुआत पर 

व्यास नदी के किनारे 

झूला पुल के शुरुआत पर 

झूला पुल के शुरुआत पर 

ऊपर पहाड़ पर  मंदिर

ऊपर पहाड़ पर  मंदिर